कोरोना वायरस से बचने के लिए 6 फीट की दूरी काफी नहीं – शोध

0
147

नई दिल्ली। कोरोना वायरस को लेकर अभी तक जितने भी शोध और रिसर्च रिपोर्ट सामने आई हैं उनके अनुसार, कोरोना फैलने और उसके प्रसार को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंस मेंटेन करना सबसे जरूरी है।

कई रिसर्च में बताया गया है कि 6 फीट की दूरी बनाते हुए समाजिक दूरी रखना संक्रमण के खतरे को कम कर सकता है लेकिन इस बारे में आई ताजा रिसर्च ने इस दावे को गलत साबित कर दिया है।

एक नए शोध से पता चला है कि अगर कोरोना संक्रमण हवा चलने के बीच तेजी से फैल सकता है। यदि कोरोना संक्रमित व्यक्ति 6 फिट की दूरी पर है और उस समय हवा चल रही है तो ये 6 फीट की दूरी भी किसी को कोरोना संक्रमित होने से नहीं रोक सकती।

इस शोध के अनुसार हल्की हवा में भी खांसी से वायरस फैल सकता है। खांसने से ड्रापलेट्स 18 फीट तक हवा में रह सकते हैं। इस बारे में साइप्रस में निकोसिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओ का कहना है कि इस बारे में गहन अध्ययन की जरूरत है कि हवा में कितनी दूरी तक हवा के साथ वायरस फैल सकता है।

इस बारे में शोधकर्ताओं का कहना है कि हवा की गति इसके लिए जिम्मेदार है और हवा के कारण ही दूरी बनाना, उसे तय कर पाना मुश्किल हो सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि संक्रमित व्यक्ति के खांसने पर ड्रॉपलेट्स क्लाउड लंबे और कम ऊँचाई वाले लोगों पर अलग-अलग असर डालते हैं। छोटी ऊँचाई वाले लोग इससे ज्यादा प्रभावित होते हैं। एजेंसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here