भारतीय सैन्य अकादमी में प्रशिक्षण पूरा कर 341 नौजवान बने अफसर

भारतीय सैन्य अकादमी में प्रशिक्षण पूरा कर 341 नौजवान बने अफसर

देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूरा कर देश के विभिन्न राज्यों के 341 नौजवान आज के दिन सेना का हिस्सा बन गए। देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में कड़ा प्रशिक्षण पूरा करने के बाद ये नौजवान देश की रक्षा की शपथ और सेवा का संकल्प लेकर अधिकारी के रूप में सेना में अपनी सेवाएं देंगे। इस मौके पर आईएमए देहरादून में पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया। पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल आरपी सिंह ने परेड की सलामी ली। इस मौके पर सेना के भावी अफसरों का हौसला-अफजाई करते हुए उन्होंने युवा अधिकारियों को चरित्र, अनुशासन व सत्यनिष्ठा के साथ देश की सेवा करने की नसीहत दी। लेफ्टिनेंट जनरल आरपी सिंह ने जेंटलमैन कैडेट्स से खुद को राष्ट्र सेवा के लिए समर्पित करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा यह विश्वास है कि आपका प्रशिक्षण उड़ते हुए रंगों के साथ बाहर आएगा।

जेंटलमैन कैडेट्स खुद को राष्ट्र को समर्पित करें

लेफ्टिनेंट जनरल आरपी सिंह ने बतौर रिव्यूइंग ऑफिसर 341 भारतीय जेंटलमैन कैडेट्स और मित्र देशों के 84 जेंटलमैन कैडेट्स को आईएमए में सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूरा करने पर बधाई दी। सिंह ने कहा कि हमें ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ (विश्व एक परिवार है) में अपने दृढ़ विश्वास के साथ काम करते हुए आगे बढ़ना चाहिए। आत्मसात किए गए प्रशिक्षण और अनुशासन के उच्च मानकों का पालन करना होगा। उन्होंने कहा, “जब आप सेना की तह में कदम रखेंगे तो आपने यहां जो कुछ भी ग्रहण किया है, उसका हर एक परीक्षण काम आएगा और हममें से प्रत्येक को पूरा विश्वास है कि आप उड़ते हुए रंगों के साथ बाहर आएंगे।”

मित्र देशों के 84 जेंटलमैन कैडेट्स को दिया यह संदेश

लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने कहा कि कैडेट्स के लिए यह एक महत्वपूर्ण अवसर है, जो आपकी स्मृति में अंकित किया जाएगा और आपके द्वारा हमेशा संजोए रखा जाएगा। आपने यहां जो बंधन बनाए हैं, वे हमारे देशों को एक साथ बांधेंगे। जटिल, फिर भी परस्पर जुड़े वैश्वीकृत दुनिया में हमारी भागीदारी को आगे बढ़ाएंगे। आगे जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि ये बेहद चुनौतीपूर्ण समय है, जब दुनिया कोरोना से लड़ रही है। दुनिया विभिन्न संघर्षों की मेजबानी कर रही है। आप एक ऐसे युग में कदम रख रहे हैं जब बहु-ध्रुवीय जटिलताएं आपके सामने चुनौती बनकर खड़ी हैं। बाहरी और आंतरिक चुनौतियों से देश को प्रतिकूल ताकतों से सामना करना पड़ता है। जैसे-जैसे हम नई वैश्विक व्यवस्था में अपना नियत स्थान लेने के लिए उठते हैं, वैसे-वैसे बढ़ना तय है।

सैनिकों के माता-पिता के लिए कहे ये मूल्यवान शब्द

लेफ्टिनेंट जनरल ने कहा कि भविष्य के योद्धा के रूप में, आपकी जागरूकता, दक्षता और नेतृत्व को बेहद गतिशील रहते हुए लगातार विकसित होना होगा। चेटवोड आदर्श वाक्य हमेशा मूल में रहना चाहिए जो आपके राष्ट्र और आपके द्वारा आदेशित पुरुषों को प्राथमिकता देता है। चरित्र, निःस्वार्थता, सहानुभूति, जोखिम उठाना और दृढ़ संकल्प आपको युवा नेताओं के रूप में मार्गदर्शन करना चाहिए। प्रेरित करने और प्रेरित करने के लिए, व्यक्तिगत आचरण और एक सैनिक लोकाचार का कोई विकल्प नहीं है। जनरल ऑफिसर ने पासिंग आउट कोर्स पूरा करने वालों के माता-पिता को बधाई दी और इस बात का धन्यवाद दिया कि बच्चों को राष्ट्र की सेवा करने के लिए इस तरह के एक महान पेशे को चुनने के लिए प्रेरित किया।

Share