आतंकवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में आठवें स्थान पर है भारत

नई दिल्ली । ग्लोबल टेररिज़्म रिपोर्ट 2017 के अनुसार भारत की गिनती आतंकवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित दुनिया के शीर्ष दस देशों में की जाती है। बीते साल सन 2016 में भारत में 929 आतंकी हमले हुए जिनमें 340 लोगों को जान गंवानी पड़ी। ग्लोबल टेररिज़्म इंडेक्स 2017 के हिसाब से दस के स्कोर के साथ इराक दुनिया में सबसे ज़्यादा आतंकवाद से जूझने वाला मुल्क है। ऐसे शीर्ष पांच मुल्कों में इराक के अलावा अफगानिस्तान, नाइजीरिया, सीरिया और पाकिस्तान शामिल हैं। रैंकिंग के मामले में भारत आठवें नंबर पर है।

यह भी पढ़ें  सरकार वापस ले सकती है पत्थरबाजों के खिलाफ केस दर्ज

ग्लोबल टेररिज़्म रिपोर्ट के मुताबिक भारत दुनिया में आतंकवाद से प्रभावित मुल्कों की श्रेणी में आठवें स्थान पर आता है। मुल्क की स्थिति का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि हमारे हालात लीबिया से भी ख़राब हैं। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की बात करें तो वह दुनिया में आतंकवाद से सबसे प्रभावित पांचवां देश है। स्कोर के मामले में पाकिस्तान जहां 8.40 पर है तो भारत 7.53 पर मौजूद है। बीते साल भारत में 340 लोगों ने आतंकवाद के चलते अपनी जान गंवायी वहीं पाकिस्तान में ऐसे पीड़ितों की संख्या 956 थी।

सन 2000 से सन 2016 के दौरान की बात करें तो 8238 लोग आतंकवाद के शिकार बने थे।
वैसे तो दुनिया में सैकड़ों की संख्या में आतंकी संगठन हैं, लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक चार संगठन आईएस, बोको हरम, तालिबान और अल कायदा मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं। इस्लामिक स्टेट की इराक, जॉर्डन, सीरिया, तुर्की, यमन, बेल्जियम, जॉर्जिया जैसे मुल्कों में मौजूदगी है।

बोको हरम कैमरून, नाइजीरिया और निगर जैसे मुल्कों में हिंसा फैला रहा है। आतंकी संगठन तालिबान अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सक्रिय है। अल कायदा अल्जीरिया, बांग्लादेश, केन्या, माली, निगर, पाकिस्तान, रूस, सीरिया, युगांडा, यमन और बुर्किना फासो में तबाही मचा रहा है।

यह भी पढ़ें सेना ने तीन खूंखार आंतकवादियों को मार गिराया

बीते एक साल में आतंकवाद के चलते दुनिया में हज़ारों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। आतंकवाद से त्रस्त शीर्ष दस देशों में आतंकवाद के चलते लगभग 22 हज़ार लोगों की जानें गई हैं। सबसे ज़्यादा 9765 लोगों की मौत इराक में हुई है। इन घटनाओं में इराक में 13314 से अधिक लोग घायल हुए हैं। आतंकियों के निशाने पर पहले नंबर पर आम लोग और निजी संपत्तियां रही हैं। इसके बाद पुलिस, सरकार और अन्य लोग आते है। एजेंसी