सीमा पर जवानों की शहादत पर शिवसेना का फूटा मोदी सरकार पर गुस्सा

मुंबई । शिवसेना ने गुजरात में विकास के दावों और देश की सीमा पर जवानों की मौत रोकने में विफलता को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। जम्‍मू-कश्‍मीर में फिर से सामान्‍य स्थिति कायम होने की चर्चा को अफवाह बताते हुए शिवसेना ने कहा कि जवानों की मौत ने सरकार की नकारात्‍मक छवि पेश की है। गौरतलब है कि शनिवार को जम्‍मू-कश्‍मीर में एलओसी से सटे केरी सेक्‍टर में पाक सैनिकों ने भारतीय सेना के एक गश्‍ती दल पर खुलेआम गोलीबारी कर दी थी, जिसमें एक मेजर और तीन जवानों की मौत हो गई थी। इसे लेकर शिवसेना के मुखपत्र में लिखा गया कि जब सैनिक की मौत होती है, तो यह सरकार की गलत छवि पेश करती है। पिछले 30 सालों से यह होता आ रहा है और जब मौजूदा सरकार सत्‍ता में आई तो हमें इस पर विराम लगने की उम्‍मीद थी।

यह भी पढ़ें  शिवसेना नगरसेवक का पद होगा रद्द !

संपादकीय में दावा किया गया कि जब पाकिस्‍तान सीजफायर उल्‍लंघन में संलिप्‍त था और भारतीय जवानों की हत्‍या कर रहा था, तब प्रधानमंत्री व पूरा कैबिनेट गुजरात चुनाव अभियान में व्‍यस्‍त था। मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए संपादकीय में यह भी लिखा गया है कि गुजरात चुनाव जीतने के लिए सूरत में कारोबारी समुदाय को जीएसटी में कई छूटें दी गईं। मगर जवानों की जान बचाने के लिए कुछ नहीं किया गया। जम्‍मू-कश्‍मीर में स्थिति सामान्‍य होने की बात झूठी है। गुजरात में विकास और जम्‍मू-कश्‍मीर में शांति व स्थिरता बिल्‍कुल गायब है। एजेंसी

यह भी पढ़ें  शिवसेना नगरसेवक के अवैध निर्माण पर चला हथौड़ा

Loading...

more recommended stories