टाटा को फिर मिलेगा डोकोमो का साथ

नई दिल्ली । जापान की तीन कम्पनियों में प्रमुख कंपनी डोकोमो ने फिर से अपने पुराने ‎हिस्सेदारों के साथ दोस्ती बढ़ाने का फैसला किया है। डोकोमो ने टाटा के साथ हिस्सेदारी डाल कर भारत में अपनी एक अलग पहचान बनाई थी। अब इस कम्पनी ने फिर से टाटा के साथ ही याराना डाल कर भारत में टाटा डोकोमो के नाम से ही काम करने का फैसला किया है। दूसरी दो कम्पनियों में डायची और रिकोह हैं। तीनों ही कम्पनियां भारत में फिर से निवेश कर रही हैं।

यह भी पढ़ें  वोडोफोन ने अपने पोस्टपेड ग्राहकों के लिए रेड टुगेदर प्लान पेश किया

जहां डायची और रिकोह को अपनी हिस्सेदार भारतीय कम्पनियों के कारण अलग-अलग किस्म के धोखों का सामना करना पड़ा वहीं डोकोमो को इसलिए टाटा का साथ छोडऩा पड़ा था, क्योंकि उसके टैलीकॉम जेवी की कारगुजारी बहुत मंदी हो गई थी। बीसीए ‎निवेशक जापान के चीफ एग्जीक्यूटिव अफसर अकीनोरी निमी ने कहा कि जापानी कम्पनियों ने टाटा सहित अलग-अलग भारतीय कम्पनियों में बड़े स्तर पर निवेश किया परन्तु उनको सफलता नहीं मिली। जापानी मीडिया ने इस तरह का प्रभाव दिया कि भारत में जापानी कम्पनियों के लिए काम करना बहुत कठिन है परन्तु अब सब ठीक हो गया है। एजेंसी

यह भी पढ़ें टाटा इंडिकॉम ने लांच किए ये नए प्रीपेड प्लान

more recommended stories