​पीडित पक्ष की रिपोर्ट लगाने के लिए एक लाख रुपये मांगने पर दो दरोगा सस्पेंड

साजिद खान / आगरा में बडी कार्रवाई, ​पीडित के पक्ष में रिपोर्ट लगाने के लिए एक लाख रुपये मांगने पर दो दरोगा सस्पेंड कर दिए हैं। एसएसपी ​अमित पाठक ने जांच के बाद दोनों दरोगाओं को सस्पेंड कर दिया है। इससे पुलिस महकमे में खलबली मची हुई है।
आगरा के थाना छत्ता के कचहरी घाट में सुभाष चंद्र गोयल का मकान है, सुभाष चंद्र का अपने भतीजे राकेश से प्रोपर्टी को लेकर विवाद चल रहा है। उनके मकान में 65 वर्षीय दिनेश कुमार किराए पर रहते हैं। राकेश ने मकान के दो कमरे किराएदार दिनेश को बेच दिए, इसकी रजिस्ट्री भी कर दी।

सुभाष चंद्र ने मुकदमा दर्ज करा दिया। वहीं, दिनेश के नाम रजिस्ट्री होने के बाद भी मकान नहीं मिला, इस मामले में उन्होंने एसएसपी ​अमित पाठक से शिकायत की, उन्होंने थाना छत्ता के दरोगा राजीव सिंह और अंडर ट्रेनी दरोगा सत्येंद्र सिंह को जांच सौंप दी।
एक लाख रुपये मांगी रिश्वत, सस्पेंड दिनेश का आरोप है कि उनके पक्ष में रिछत्ता रिपोर्ट लगाने के लिए दरोगा राजीव सिंह और सत्येंद्र सिंह ने एक लाख रुपये रिश्वत मांगी, बाद में 50 हजार रुपये में पक्ष में रिपोर्ट लगाने के लिए तैयार हो गए। उन्होंने एसएसपी अमित पाठक से दोबारा शिकायत की, मोबाइल पर हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भी दी, जिसमें दरोगा रुपये मांग रहे हैं। उन्होंने सीओ छत्ता ​रीतेश कुमार सिंह को जांच सौंप दी। जांच में दोनों दरोगा दोषी पाए गए। शनिवार को एसएसपी अमित पाठक ने दरोगा राजीव सिंह और सत्येंद्र सिंह को सस्पेंड कर दिया है।

more recommended stories