SDM द्वारा की गई अभद्रता मामले में निलंबन पर अड़े शिक्षक संगठन 

समय भास्कर फिरोजाबाद।

राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के जिलाध्यक्ष सोनल शर्मा के साथ SDM सदर देवेंद्र सिंह द्वारा की गई अभद्रता के मामले में जिला प्रशासन द्वारा SDM के विरुद्ध कोई कार्यवाही ना करने पर शिक्षकों में आक्रोश बढ़ गया है। अपने आंदोलन की गति को तेज करते हुए कल शिक्षकों द्वारा बीआरसी फिरोजाबाद से एक मार्च निकाला जो जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय होकर जिलाधिकारी कार्यालय पर पहुंचा।  जिला मुख्यालय पर पहुंचे शिक्षकों ने मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन बीएसए को सौंपा एवं जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन एडीएम को दिया।

बीएसए अरविंद कुमार पाठक को मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन देते शिक्षक संगठन के लोग

SDM द्वारा की गई अभद्रता अब जिला प्रशासन पर कहीं ना कहीं भारी पड़ती दिखाई दे रही है।  वहीं शिक्षक संगठनों द्वारा आंदोलन की धार और तेज करने की रणनीति बना कर जिला प्रशासन को चेतावनी दी गई है। जिला मुख्यालय पर एडीएम को ज्ञापन सौंपते समय शिक्षक संगठनों के नेताओं ने यह कहा कि जब तक SDM द्वारा माफ़ी नहीं मांगी जाती एवं SDM के  निलंबन की कार्यवाही नहीं की जाती तब तक शिक्षक चुप नहीं बैठेंगे । उन्होंने कहा अगर कार्यवाही नहीं की गई तो पूरे जनपद में तालाबंदी कर शिक्षण कार्य ठप किया जाएगा।

वही एक दैनिक समाचार में छपे SDM देवेंद्र सिंह के वक्तव्य से मामला और गरमा गया उन्होंने कहा  – शिक्षकों के साथ कोई अभद्रता नहीं की है उनको डांट फटकार दिया था जिस आदेश को वह देने आई थी वह हाई कोर्ट में मामला विचाराधीन है बीएलओ का कार्य चुनाव संबंधी कार्य है इस कार्य को करने से वह मना कर रही थी।

 

जिला मुख्यालय पर एडीएम को ज्ञापन सौंपते शिक्षक

अगर इस वक्तव्य को देखें तो कहीं ना कहीं है बात साबित हो रही है कि SDM द्वारा शिक्षकों के साथ किस तरह का व्यवहार किया गया होगा। SDM द्वारा डांट-फटकार की बात को सार्वजनिक रूप से कहना कहां तक उचित है। महिला शिक्षिका के साथ अपने दफ्तर में इस तरह का व्यवहार करना  निंदनीय है। यह बात अपने आप में गंभीर प्रश्न खड़े करती है कि अधिकारी आम जनता के साथ किस तरह का व्यवहार करते हैं।

शिक्षक संगठनों द्वारा मुख्यमंत्री को भेजे गए अपने ज्ञापन में कहां है की  राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के जिलाध्यक्ष श्रीमती सोनल शर्मा SDM सदर को माननीय उच्च न्यायालय  के आदेश की प्रति प्राप्त कराने एवं वार्ता हेतु उनके कार्यालय में गई थी ।  SDM देवेंद्र सिंह द्वारा न्यायालय की प्रति फेंकते हुए उनके साथ तू तड़ाक की भाषा एवं निलंबन की कार्यवाही की धमकी देते हुए कहा की  तुझे नौकरी करना सिखा दूंगा तू बड़ी नेता बनती है आदि बातें कहीं ।

विडंबना देखिए 5 सितंबर शिक्षक दिवस होता है । शिक्षकों का सम्मान होता है । बड़े-बड़े कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।  लेकिन 6 सितंबर को जिला प्रशासन के एक अधिकारी द्वारा महिला शिक्षिका के साथ अपशब्दों का प्रयोग क्या संदेश देता है । यह आप लोग ही तय कर सकते है ।

 

more recommended stories