आतंकियों से मुठभेड़ में भारत के चार जवान शहीद

जम्‍मू। पाकिस्‍तानी कब्‍जे वाले कश्‍मीर को बांटने वाली एलओसी के पास बांडीपोरा सेक्‍टर के गुरेज में कवर फायर की आड़ में घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकियों से मुठभेड़ में चार भारतीय जवान शहीद हो गए हैं। इस मुठभेड़ में चार आतंकी भी मार गिराए गए हैं। पाकिस्‍तान की ओर से आतंकियों को भारत में घुसपैठ कराने के लिए लगातार कवर फायर दिया जा रहा है। इस दौरान पाकिस्‍तान की ओर से मोर्टार भी दागे जा रहे हैं। पाकिस्‍तान की ओर से अब भी फायरिंग जारी है।

भारतीय जवान भी लगातार पाकिस्‍तान की गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं।पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा गुरेज (बांडीपोरा) सेक्टर में मंगलवार को युद्ध विराम का उल्लंघन कर भारतीय ठिकानों पर की गई गोलाबारी की आड़ में घुसपैठ कर रहे आतंकियों के मंसूबों को नाकाम करते हुए एक मेजर समेत चार सैन्यकर्मी शहीद हो गए। इस दौरान दो आतंकी भी मारे गए हैं। एक अन्य सूचना के मुताबिक मारे गए आतंकियों की तादाद चार है। फिलहाल, उनके अन्य बचे हुए साथियों को, जिनकी संख्‍या 4 बताई जा रही है, मार गिराने का अभियान जारी है।

जानकारी के अनुसार सोमवार से रुक-रुककर पाकिस्‍तान की ओर से भारतीय बॉर्डर पर गोलीबारी की जा रही थी। इसी दौरान कुछ आतंकी भारत में घुसपैठ करते देखे गए। भारतीय जवानों ने जब उन पर गोलाबारी की तो उन्‍होंने भी फायरिंग शुरू कर दी। बताया जाता है कि 2003 में हुए समझौते के बाद पहली बार इस सेक्‍टर में पाकिस्‍तान की ओर से मोर्टार दागे जा रहे हैं। भारतीय जवान भी लगातार पाकिस्‍तान की गोलाबारी का जवाब दे रहे हैं।

गुरेज से मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार को आधी रात के बाद पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के सीजफायर का उल्लंघन करते हुए एलओसी के साथ सटे बकतूर और नैनी इलाके में भारतीय  सैन्य व नागरिक ठिकानों पर गोलाबारी की। पहले तो भारतीय सैनिकों ने इसे उकसावे की कार्रवाई मान संयम बनाए रखा।

लेकिन जब गोलाबारी की तीव्रता बढ़ने लगी तो उन्होंने भी जवाबी फायर किया। सुबह तक दोनों तरफ से एक-दूसरे के ठिकानों पर रुक-रुक कर गोलाबारी होती रही। पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा की गई गोलाबारी के तौर-तरीकों के आधार पर संबधित सैन्याधिकारियों ने हालात का आकलन करते हुए पता लगाया कि गोलाबारी का मूल उद्देश्य आतंकियों के एक दल को भारतीय इलाके में सुरक्षित धकेलना हो सकता है।

तलाशी लेते हुए जवान जब गोविंद नाले के पास पहुंचे तो वहां एक जगह छिपे आतंकियों ने उन पर हमला कर दिया। आतंकियों ने जवानों पर राइफल ग्रेनेड दागे और उसके बाद उन्होंने अपने स्वचालित हथियारों से फायरिंग की। इसमें सैन्य दल के कुछ जवान जख्मी हो गए, लेकिन उन्होंने तुरंत अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर करते हुए आतंकियों को मुठभेड़ में उलझा लिया। एजेंसी

Loading...

more recommended stories