राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने धरना देकर भेजा ज्ञापन

संवाददाता
लखनऊ। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने कर्मचारियों की विभिन्न लम्बित मांगों को लेकर 11 नवम्बर से 22  नवम्बर 2013 की महाहड़ताल और23 जुलाई18 की महारैली कर सरकार को जगाने का प्रयास किया था। अब पुन: परिषद ने कर्मचारियों की मांगों की प्रतिपूर्ति के लिए आज 19 जुलाई को समस्त जनपद मुख्यालयों पर धरना देकर मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन प्रेषित कर कर्मचारियों के समाघान की मॉग की है। राजधानी के कर्मचारी प्रेरणा स्थल डीएम आवास के सामने आयोजित राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के धरने की अध्यक्षता जनपद अध्यक्ष बीएस् डोलिया ने करते हुए कहा कि हम फिलहाल अपनी मांगों के निस्तारण की मांग कर रहे है। संचालन करते हुए जिला मंत्री अमिता त्रिपाठी ने परिषद की 11 सूत्रीय मांगों से उपस्थित कर्मचारी समाज को अवगत कराया।
धरने में विशेष्ज्ञ रूप आमंत्रित परिषद के महामंत्री शिवबरन सिंह यादव ने कहा कि  जिन 11 सूत्रीय मांगों को लेकर हमें आन्दोलन के लिए बाध्य होना पड़ा है, उनमें से कई मांगों पर उच्च स्तरीय वार्ता के बाद सहमति भी बन चुकी है। चंद अधिकारियों की सोची समझी राजनीति और कर्मचारियों के दिल में राज्य सरकार के प्रति अविश्वास पैदा करने की नियत से उक्त सहमति वाले आदेश भी अब तक लम्बित पड़े हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार के कार्यालय में परिषद का प्रतिनिधि मण्डल मुख्यमंत्री से  लेकर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव कार्मिक, प्रमुख सचिव वित्त के साथ कई बार वार्ता कर चुका है। कर्मचारियों की समस्याओं से राज्य सरकार और शासन पूरी तरह से भिज्ञ हैं, इसके बावजूद समस्याओं का समाधान नही हो पा रहा है।
उन्होंने कहा कि परिषद द्विपक्षीय वार्ता के पक्ष में है, लेकिन परिषद का मत यह भी है कि वार्ता में जो भी तय हो उसका अनुपालन अतिशीघ्र आदेश के रूप में जारी हो जाना चाहिए। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा एचआरए दोगुना किये जाने को कर्मचारियों के साथ धोखा बताते हुए कहा कि तत्कालीन सपा सरकार ने कर्मचारियो के एचआरए में बीस प्रतिशत बढ़ोत्तरी की थी जबकि वर्तमान सरकार ने उक्त बीस प्रतिशत की बढ़ोत्तरी को नजरअन्दाज करते हुए वर्ष 2008 में प्रतिस्थापित एचआरए में बढ़ोत्तरी की है। धरने को परिषद के संगठन मंत्री संजीव गुप्ता, संयुक्त मंत्री अविनाश चन्द्र श्रीवास्तव, दिवाकर राय, सुभाष चन्द्र तिवारी, धर्मेन्द ंिसंह,अशोक सिंह, राम सुरेश सिंह, अशोक दुबे, आशीष मिश्रा, रामवीर सिंह यादव, इं. मनोज श्रीवास्तव, जितेंद्र सिंह, पवन सिंह, राजेश सिंह, नीलम श्रीवास्तव, समरजीत सिंह, अमरजीत मिश्रा, धर्मपाल साहू आदि ने सम्बोधित किया।
Loading...

more recommended stories