अम्बेडकर को आजादी के बाद ही मिल जाना था भारत रत्न: डा. महेन्द्र

संवाददाता
लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष डा. महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने रघुवर हॉल फरीदीनगर में बाबा साहब डा. भीमराव रामजी आम्बेडकर की जयंती पर समरसता दिवस कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि बाबा साहब को भारत रत्न आजादी के बाद ही मिल जाना चाहिए था, परन्तु यह पुनीत कार्य अटल की सरकार ने किया। भाजपा प्रारम्भ से ही बाबा साहब के द्वारा प्रशस्त मार्ग का अनुसरण करके उनके स्वप्न को साकार करने का काम कर रही है। बाबा साहब से जुड़े स्थानों को पंचतीर्थ के रूप में विकसित करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बाबा साहब के दर्शन को विश्व-पटल पर ले जाने का काम किया है तथा उनके विचारों पर गरीब कल्याण की योजनाएं क्रियान्वित कर सबका साथ-सबका विकास के संकल्प को पूरा करने का कार्य कर रहे है।

डा. पाण्डेय ने सपा मुखिया अखिलेश यादव द्वारा पहली बार डा. आम्बेडकर की जयंती मनाने पर तंज कसते हुए कहा कि अब अखिलेश यादव को यह भी बताना चाहिए कि वह मायावती से गठबंधन के बाद सपाईयों द्वारा दलितों की कब्जाई जमीन को कब तक मुक्त कराएंगे। डा. पाण्डेय ने कहा कि गठबंधन के कारण बाबा साहब की जयंती मनाने वाले अखिलेश यादव सपा द्वारा संसद में प्रोन्नति में आरक्षण को बिल फाडऩे के लिए माफी मांगेगे क्या।

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में बोलते हुए प्रदेश महामंत्री गोविन्द नारायण शुक्ल ने कहा कि सच्चे मायने में भाजपा ने भारत रत्न बाबा साहब के स्वप्नों को साकार करने का कार्य कर रही है। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी ने अन्त्योदय के साधक पं. दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया। इस अवसर पर क्षेत्रीय अध्यक्ष सुरेश तिवारी, क्षेत्रीय संगठन मंत्री ब्रज बहादुर, क्षेत्रीय महामंत्री दिनेश तिवारी, महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा, रामचन्द्र कनौजिया प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

more recommended stories